Thursday, July 7, 2011

सब कहते हैं कि हम आँसू बहाते नहीं,
गम के आगोश में कभी हम जाते नहीं,
ये दुनिया बड़ी जालिम है और लोग बड़े संगदिल,
इसलिए अपना दर्द हम किसी को दिखाते नहीं ।

2 comments:

Roshi said...

bilkul sach likha hai isi kavita per kuch shayad rahim ji ne likha tha rahiman niz man ki vyatha man mein rakhajoi sun ithlay hain log sab baat na leve koi

शालिनी कौशिक said...

sahi hai dard dikhana bhi nahi chahiye.
bahut sarthak likha hi deep ji.badhai.