Saturday, July 9, 2011

इंतजार की घड़ियाँ नहीं आसान होती है,
निंदिया रानी अँखियों से ही अंजान होती है ।

1 comment:

शालिनी कौशिक said...

bahut sahi kaha deep ji aur vah bhi bahut sundarta se.badhai.