Monday, August 15, 2011

तिरंगा मेरी जान में है, मेरे ईमान में है, मेरे हरेक अरमान में है,
तिरंगे में भी वही श्रद्धा है, जो मेरे भगवान में है|

1 comment:

शिखा कौशिक said...

बहुत बहुत सुन्दर !
वाह !

blog paheli