Saturday, September 29, 2012

मेरी जिंदगी में उनकी दुआओं का असर है,
वरना हम तो बहुत पहले खो चुके होते |

No comments: